भगवान राम पर निबंध – पढ़े यहाँ Lord Ram Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हिन्दू धर्म में सभी देव देवताओं को पूज्यनीय माना जाता है | प्रभु श्रीराम यह श्री विष्णु का सातवा अवतार है | रामायण इस ग्रंथ में भगवान श्रीराम के बारे पूरी जानकारी दी गयी है |

भगवान श्रीराम को ‘मर्यादा पुरुषोत्तम’ के नाम से भी जाना जाता है | हिन्दू धर्म में प्रभु श्रीराम को भी पूजनीय माना गया है |

भगवान राम का जन्म

भगवान श्रीराम जी का जन्म अयोध्या नगरी में हुआ था | उनके पिता का नाम दशरथ और माता का नाम कौशल्या था |

उनके तीन भाई थे – भरत, शत्रुघ्न और लक्ष्मण | भगवान श्रीराम जी का विवाह सीता के साथ हुआ था | उनके दो पुत्र थे लाव और कुश |

विष्णु का राम अवतार

भगवान विष्णु ने लंकाधीश रावण को मारने के लिए राम अवतार धारण किया था | उन्होंने अपने पिता के कहने पर १४ साल तक वनवास में रहना पड़ा |उन्होंने बाली को मारकर सुग्रीव को अपना राज पाठ वापस दे दिया |

रामनवमी का त्यौहार

गाँव या देश में रामनवमी यह त्योहार राम के जन्म उत्सव के रूप में मनाया जाता है | इस त्यौहार को सभी लोग बड़े धूमधाम से मनाते है | इस दिन भगवान श्रीराम की पूजा की जाती है |

इस त्यौहार को गाँव में बहुत ख़ुशी के साथ सभी लोग मनाते है | 12 बजे राम जन्म होता है उसके बाद महिला गाना गाकर इस त्यौहार को मनाते है | इस दिन का बहुत महत्त्व रहता है |

संदेश

भगवान श्रीराम ने वनवास में रहकर भारतीय आदिवासी, जनजाति के लोगो में सत्य, प्रेम और मर्यादा, सेवा का सन्देश फैलाया |

जब भगवन श्रीराम का रावण के साथ युद्ध हुआ था तब सभी लोग उनका साथ दे रहे थे | सभी लोगो में जातिभेद नही था | लोग सिर्फ दो तरह की सोच में बाटे गए थे |

निष्कर्ष:

भगवान श्रीराम का चरित्र हम सभी को माता पिता के आज्ञा का पालन करना सिखाता है | उनके रामायण इस ग्रंथ से हमें अच्छी प्रेरणा और मार्गदर्शन मिलता है |

Updated: April 3, 2019 — 9:59 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *