जल (पानी) बचाओ पर हिंदी में निबंध – पढ़े यहाँ Jal Bachao Essay In Hindi

प्रस्तावना :

जल ही जीवन है, जल के बिना जीवन की कल्पना नहीं किया जा सकता है |  इस पृथ्वी पर सभी जीवित जीव मनुष्य. जीव-जंतु, प्राणी, पेड़-पौधे सभी के जीवन के लिए जल का होना बहुत जरुरी है क्योंकि जल के बिना जीवन संभव नहीं है |

जल ही हमें इस पृथ्वी पर जीवन प्रदान करता है | जल हमारे लिए भगवान का दिया हुआ बहुत ही सुंदर उपहार है | हमारी पृथ्वी एकमात्र ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन संभव है | क्योंकि यहाँ पानी और जीवन दोनों ही विद्यमान है |

जल बचाना हम सभी की लिए उपयोगी है | फिर भी लोग जल की बचत नहीं करते हैं इसका यही कारण है की जल को दूषित जल बना देते हैं | जल ही हमारा जीवन दाता है, इसलिए जल को जितना हम जितना बचाएंगे वह हमारे लिए उतना ही अनमोल बन जाएगा |

हवा के बाद जल ही दूसरा सबसे महत्वपूर्ण संसाधन है जो इस पृथ्वी पर जीवन जीने के लिए आवश्यक है | आज के इस निबंध के माध्यम से जल के महत्व को समझना चाहिए की जल हमारे लिए क्यों आवश्यक है | और क्यों जल की बचत करनी चाहिए |

जल का उपयोग, पीने के पानी के अलावा, मनुष्य को कपड़ा धोनें, खाना बनाने, घर की साफ-सफाई करने  तथा खेतों की सिंचाई के लिए जिसे हमें खानें के लिए अनाज उत्पन्न होते है |

पेड़-पौधों के लिए भी जल की आवश्यकता है | जैसे की वृक्ष हमें शुद्ध हवा प्रदान करते हैं | इस पृथ्वी पर प्रत्येक के जीवन जीने के लिए जल बहुत ही महत्वपूर्ण स्रोत है |

इस ग्रह पर जीवन जीने के लिए जल का होना बहुत ही जरुरी है | जल के बिना जीवन नहीं है यह जानते हुए भी लोग जल को विवेकहीन तरीके से इस्तेमाल करते है |  इस पृथ्वी पर कोई भी ऐसा जीव नहीं है, जिसे जल की आवश्यकता ना हो | जल हमारे जीवन का एक मात्र प्रमुख साधन है |

पृथ्वी पर ७१% पानी है, जिसमें केवल ३% पानी पिने के लायक है | हमारे इस ग्रह से दिन-प्रतिदिन पीने का स्वच्छ जल समाप्त होते जा रहा है | इसका कारण यही है की कई देशों में जल बचाओ के इस विषय को लेकर विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजन किये जाते हैं |

संयुक्त राष्ट्र द्वारा हर साल २२ मार्च को “विश्व जल दिवस” मनाया जाता है, इसके अंतर्गत लोगों को पीने के जल या ताजे जल के संसाधनो के प्रबंधन के विषय में समझाया जाता है | भारत सरकार ने भी जल के सही संरक्षण और प्रबंधन को लेकर लोगों में जागरूकता अभियान चला रही है |

भारत सरकार और केंद्र सरकार द्वारा इस मुद्दे पर लोगों को जागरूक करने के लिए कई विभाग बनाये गए हैं | जिसका नाम पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय है, जो गंगा और अन्य नदियों के सफाई का काम करती है |

जल को बचाते हुए, बर्तन धोते समय , ब्रश करते समय नल को बंद रखना चाहिए | नहाने के लिए शावर का उपयोग नहीं करना चाहिए | पौधों में पाइप की जगह वाटर कैन से पानी देना चाहिए | हमें इसे स्वंय की जिम्मेदारी समझना चाहिए |

Updated: February 1, 2020 — 9:38 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *