भारतीय नारी पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Indian Women Essay In Hindi

प्रस्तावना :

समाज में नारी को एक देवी समान माना जाता है | पुराने जमाने में नारी को विशेष स्थान रहा है | प्राचीन समय में नारी का सम्मान किया जाता था | सीता, सती – सावित्री, अनुसया और गायत्री जैसे भारतीय नारियो ने अपना मुख्य स्थान प्राप्त करके दिखाया है |

नारी की उपस्थिति हर कार्य में महत्वपूर्ण समझी जाती थी | लेकिन देश पर हुए आक्रमणों के कारण भारतीय नारी का महत्त्व कम होने लगा | समाज में नारी के अवस्था में बदल होने लगे | भारतीय नारी का समाज में दर्जा कम होने लगा |

अंग्रेज सरकार के कारण भारतीय नारी की दशा बदलने लगी | समाज में नारी का अपमान किया जाता था | उसका दर्जा कम होने लगा इसलिए नारी का हर दिन तिरस्कार करने लगे थे |

मुश्किलों का सामना

प्राचीन काल में नारी को बहुत सारे मुश्किलों का सामना करना पड़ता था | देश स्वतंत्र होने से पहिले हर एक स्त्री को गुलामगिरी का जीवन जीने पड़ता था | समाज में अनेक प्रथा रूढ़ थी |

इसलिए नारी को बाल विवाह, सती प्रथा और दहेज़ इ प्रथाओ को सामना करना पड़ता था | समाज में हर एक पुरुष को उत्तम दर्जा दिया जाता था |

महान नारीय 

इस देश में अंग्रजों के सरकार में राणी लक्ष्मीबाई, चाँद बीबी जैसी नारियों ने सभी परंपराओं के साथ अपना नाम इतिहास के पन्नो में अजरामर कर दिया है |

अपने देश के लिए उन्होंने बहुत बड़ा महान कार्य किया है | भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भारतीय महान नारियों ने अपना योगदान दिया है |

आज का बदलता युग

लेकिन आज का युग परिवर्तन का युग माना जाता है | आज के युग में बहुत सारे बदलाव होने लगे है | स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद हर भारतीय नारी का उसका स्थान दिया गया है |

उसके अधिकार दिए गए है | आज इस युग में हर एक भारतीय नारी पुरुषों के साथ कंधे सेकंधा मिलाकर चलती है | भारतीय नारी को समाज और देश में भी उच्च दर्जा मिल गया है |

आज की नारी घर से बाहर कदम रखकर हर एक क्षेत्र में कार्य करने लगी है | चार दीवारों से बाहर निकलकर अपने अधिकारों प्राप्त करने के लिए सज्ज हो रही है |

भारतीय नारी के जीवन में परिवर्तन

आज की नारी अपने प्राचीन काल को भूलकर अपने जीवन में आगे बढ़ने की कोशिश कर रही है | हर बहर्तीय नारी के जीवन में परिवर्तन होने लगा है | आज के युग में भारतीय नारी का जीवन, राहणी मान, वेशभूषा इ चीजों में बदल होने लगा है |

नारी को शक्ति का प्रतिक माना जाता है | आज की नारी अपने जीवन को सफलता पूर्वक बनाने के लिए खुद फैसले ले रही है |

निष्कर्ष :

हम सभी लोगो को हर एक भारतीय नारी का सम्मान करना चाहिए | समाज में नारी को उसका स्थान देना चाहिए |

हमारे भारतीय संस्कृति में नारी को लक्ष्मी, देवी और दुर्गा के रूप में देखा जाता है और उनका आदर किया जाता है |

Updated: February 28, 2019 — 9:14 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *