भारतीय नारी पर निबंध कक्षा ६ के लिए – पढ़े यहाँ Indian Women Essay In Hindi For Class 6

प्रस्तावना:

समाज में भारतीय नारी का विशेष महत्व हैं | धार्मिक ग्रंथों में नारी को देवी के समान माना जाता था | नारी को पूज्यनीय भी मानते थे | लेकिन कई आक्रमणों के बाद भारतीय नारी की दशा के परिवर्तन होने लगे | नारी को समाज में उसका स्थान नही मिल रहा था |

अंग्रेजी सरकार आने के बाद भारतीय नारी की दशा बहुत चिंतनीय हो गयी | उसे अबला नारी की भी संज्ञा भी दी जाने लगी हैं | उसको समाज में तिरस्कार का सामना भी करना पड़ता था |

भारतीय नारी पर अत्याचार

देश में विदेशी आक्रमणों और अत्याचारों के कारण और भारतीय समाज में आने वाली सामाजिक कृतियों की वजह भारतीय नारी को कमजोर बनती जा रही थी |

भारतीय नारी को बाल विवाह, दहेज प्रथा और सती प्रथा जैसे रुढियों का सामना करना पड़ता था | भारतीय नारी पर हमेशा अत्याचार होते थे | उसको गुलामगिरी का जीवन जीना पड़ता था |

भारतीय नारियों का योगदान

अंग्रेजी शासनकाल में देश के स्वतंत्रता संग्राम में रानी लक्ष्मीबाई और चाँद बीबी इत्यादि. नारियों ने सबसे बड़ा योगदान दिया हैं | इनका नाम आज भी इतिहास की पन्नों पर लिखा गया हैं | भारतीय नारियों ने देश के लिए सबसे बड़ा महत्वपूर्ण योगदान दिया हैं |

देश को स्वतंत्रता

देश को आज़ादी मिलने के बाद भारतीय नारी के जीवन में परिवर्तन होने लगे हैं | स्वतंत्रता के बाद भारतीय नारी अपना जीवन स्वतंत्रपणे जीने लगी हैं | भरिय नारी को धीरे धीरे उसके अधिकार मिलने लगे | देश और समाज में भी अपना सिर उठाकर जीने लगी हैं |

भारतीय नारी चार दीवारों से बाहर निकलकर अपने हर एक क्षेत्र कार्य करने लगी हैं | आज अपने अधिकारों के लिए वो खुद लढ सकती हैं |

आज की भारतीय नारी

आज की भारतीय नारी पुरुषों के साथ कंधे से कंधे मिलाकर अपने जीवन में आगे बढ़ रही हैं | देश को समृद्ध भारत निर्माण करने के लिए एक अच्छी जिम्मेदारी निभा रही हैं |

आज़ादी मिलने के बाद भारतीय नारी ने अपना वर्चस्व स्थापित किया हैं | हमारे देश के संविधान ने भारतीय नारी को समान अधिकार प्राप्त करके दिए हैं |

आज की भारतीय नारी शिक्षा प्राप्त करके हर एक क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं | दूसरी तरफ से वो भारतीय आंदोलन में सहयोग दे रही हैं |

समाज में सम्मान

आज समाज में भारतीय नारी का आदर और सम्मान किया जा रहा हैं | आज की भारतीय नारी कठपुतली बनके नहीं रही हैं | आज वो हर मुश्किलों का सामना खुद कर सकती हैं | कई भारतीय नारियों ने अन्य क्षेत्रों में कार्य करके इस देश का नाम रोशन कर दिया हैं | जैसे की कल्पना चावला, बछेंद्री पाल इ. |

निष्कर्ष:

समाज और देश में भारतीय नारी का सम्मान करना चाहिए | जब समाज में पुरुष और नारी को समान रूप से देखा जायेगा और उन दोनों समान अधिकार दिए जाएंगे तो हमारा देश अन्य अग्रेसर देशों में से एक देश होगा |

Updated: March 30, 2019 — 1:15 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *