भारतीय संस्कृति पर निबंध – पढ़े यहाँ Indian Culture Essay In Hindi

प्रस्तावना:

किस भी देश की पहचान यह उस देश की संस्कृति से होती हैं | हमारे देश की संस्कृति यह सबसे प्राचीन और समृद्ध हैं | हमारी भारतीय संस्कृति को पुरे विश्व की सभी संस्कृतियों की जननी कहा जाता हैं |

हमारे भारतीय संस्कृति का विशेष स्थान हैं | अन्य देशों की संस्कृति यह धीरे – धीरे नष्ट होती जा रही हैं लेकिन हमारी भारतीय संस्कृति आज भी अपने स्थान पर बनी हुई हैं |

आज की समय में सभ्यता और संस्कृति को एक – दुसरे का पर्याय समझते हैं | संस्कृति और सभ्यता यह अलग – अलग होती हैं | सभ्यता का संबंध बाहरी जीवन में होता हैं और संस्कृति का संबंध हमारी विचारधारा, सोच से होता हैं |

संस्कृति का अर्थ –

संस्कृति यह शब्द संस्कार इस शब्द से बना हुआ हैं | संस्कृति का अर्थ होता हैं – किसी भी देश के संस्कार, शुद्धि, सजावट, रहन – सहन, परिष्कार इत्यादि होता हैं | भारतीय संस्कृति हमारे देश में विविध जाती और धर्म के लोग रहते हैं | सभी लोगों का राहणीमान अलग – अलग हैं | हमारे भारत में विविधता में एकता दिखाई देती हैं |

प्राचीन संस्कृति

प्राचीन संस्कृति में से भारतीय संस्कृति यह सबसे प्रसिद्द हैं | नर्मदा घटी में की गयी खुदाई और मध्य प्रदेश के भीमबेटका में मिले हुए शैलचित्र इन सभी के कारण हमारी भारतभूमि को सबसे पुराणी कर्मभूमि मानी जाती हैं |

भारतीय संस्कृति की सातत्यता

हमारी भारतीय संस्कृति की विशेषता हैं की, यह हजारों सालों से भी आज भी अपने मूल स्वरुप में जीवित हैं | जबकि असीरिया, यूनान और रोम इन्होंने अपनी संस्कृति को भुलाया हैं |

हमारे देश में नदियों, वट, पीपल जैसे पेड़ों की और देवी – देवताओं की पूजा की जाती हैं | यह क्रम पुराने सालों से चलता आ रहा हैं | गीता और उपनिषदों के संदेश आज भी सभी लोगों को प्रेरणा का आधार रहे हैं |

भारतीय संस्कृति की विशेषता

संस्कार की भावना

हमारे भारतीय संस्कृति में संस्कार को विशेष महत्त्व दिया जाता हैं | संस्कार यह समाज और धार्मिक कार्यों से संबंधित हैं |

गुरु का सम्मान

हमारी भारतीय संस्कृति में गुरु का सम्मान को संस्कृति का रूप माना जाता हैं | हमारे देश में शुरू से ही गुरु का आदर और सम्मान किया जाता हैं |

हमारी संस्कृति में गुरु का अस्तित्व भगवान से भी बढ़कर माना जाता हैं | बड़े लोगों का आदर करना और श्रद्धा यह भारतीय संस्कृति का सबसे बड़ा सिद्धांत हैं |

अनेकता में एकता

हमारे देश में अनेकता में एकता दिखाई देती हैं | हमारा भारत देश भौगोलिक दृष्टिकोण से विविधाओं का देश हैं | हिमालय पर्वत हमारे देश का गौरव का प्रतीक हैं | गंगा, यमुना और नर्मदा यह पवित्र नदियों की स्तुति सभी लोग करते आ रहे हैं |

निष्कर्ष:

आज भी हमारी भारतीय संस्कृति विशाल हैं, उतनी ही वो प्राचीन और बहुत मजबूत हैं | हमारी भारतीय संस्कृति की तुलना ओर किसी संस्कृति से नहीं की जा सकती हैं |

हमारी भारतीय संस्कृति यह एक जीवनधारा हैं मानी जाती हैं, जो निरंतर प्रवाहित होती हैं | आज यह संस्कृति विशालता, सहिष्णुता और सर्वांगिनता के कारण सबसे प्रसिद्ध हैं |

Updated: May 11, 2019 — 10:38 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *