भारतीय संस्कृति पर निबंध कक्षा ३ के लिए – पढ़े यहाँ Indian Culture Essay In Hindi For Class 3

प्रस्तवना:

हमारा भारत देश यह समृद्ध संस्कृति का देश माना जाता हैं | इस देश में विविध धार्मिक संस्कृति के लोग रहते हैं | यह देश अपनी संस्कृति और परंपरा के लिए आज भी प्रसिद्ध हैं | भारतीय संस्कृति यह विश्व की सबसे प्राचीन संस्कृति हैं |

यह संस्कृति लगभग ५००० हजार पुरानी है | भारतीय संस्कृति को विश्व की महान संस्कृति मानी जाती हैं | इस देश में विविधता में एकता दिखाई देती हैं |

इस देश में रहने वाले अन्य धर्म के लोगों की भाषा, रीती –रिवाज, रहन – सहन यह सब अलग हैं | फिर भी सभी लोग एकसाथ और एकता के साथ रहते हैं |

संस्कृति का अर्थ –

संस्कृति यह संस्कार इस शब्द से बना हुआ हैं | संस्कृति का अर्थ होता हैं – सुधारने वाली या परिष्कार करने वाली | इस संस्कृति को यजुर्वेद में सृष्टी माना गया हैं |

अनेकता में एकता की भावना

हमारे देश में सभी लोगों में अनेकता में एकता की भावना दिखाई देती हैं | यहाँ पर सभी लोगों के गुणों का आदर और सम्मान किया जाता हैं | मानव कल्याण करना ही भारतीय संस्कृति का मूल आधार होता हैं |

अन्य संस्कृतियों में से भारत की संस्कृति यह सबसे अलग हैं | हिमालय पर्वत इस देश के गौरव का प्रतीक हैं | भारतीय संस्कृति पूर्ण रूप से शुद्ध हैं | जिसमे सम्मान, प्यार और दुसरों के भावना का आदर और सम्मान किया जाता हैं |

गुरु का आदर

गुरु का आदर और सम्मान करना हमारी भारतीय संस्कृति का एक रूप हैं | इस देश में पहले से ही गुरु का सम्मान किया जाता हैं | इस संस्कृति मवे बड़ों का आदर किया जाता हैं |

बड़ों के सामने न बैठना, बड़ो के आने पर अपना स्थान छोड़ देना इ | हमारे भारतीय संस्कृति में गुरु को भगवान से बढ़कर माना जाता हैं |

भारतीय संस्कृति की सातत्यता

हमारी भारतीय संस्कृति की मूल विशेषता यह हैं की, यह संस्कृति हजारों सालों से आज भी अपने मूल रूप में जीवित हैं | असीरिया, यूनान और रोम किसंस्क्रुतियों ने अपने मूल रूप को भुला हैं |

लेकिन भारतीय संस्कृति की निरंतरता आज भी अस्तित्व में हैं | भारतीय संस्कृति में देवी – देवताओं की पूजा करना और पवित्र नदियाँ, वट, पीपल जैसे वृक्ष की पूजा यह क्रम प्राचीन काल से चल रहा हैं |

कर्मवाद

इस भारत देश में रहने वाले सभी लोग अपने – अपने धर्म के अनुसार भगवान को वंदना करते हैं | अन्य जाती और धर्म के लोग सभी त्योहारों को बहुत ख़ुशी के साथ मनाते हैं |

यहाँ के लोग हर किसी के सुख – दुःख में सहभाग होते हैं | हमारी भारतीय संस्कृति कर्म में विश्वास रखती हैं | व्यक्तियों को चार आश्रमों में विभाजित किया गया हैं |

निष्कर्ष:

हमारी भारतीय संस्कृति यह हमारे देश की पहचान हैं | यह संस्कृति एक महान जीवनधारा हैं जो निरंतर प्रवाहित होती हैं | हमारी भारतीय संस्कृति जितनी विशाल हैं उतनी ही वो समृद्ध और प्राचीन हैं | हम सभी को उसकी रक्षा करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए |

Updated: May 17, 2019 — 10:56 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *