पेड़ों के महत्व पर हिंदी में निबंध – पढे यहाँ Importance Of Trees Essay In Hindi

प्रस्तावना :

वृक्ष एक प्राक्रतिक संसाधन है जो ईस्वर ने हमें भेट के स्वरुप में दिया है | पेड़ को हम भारतीय हरा सोना भी मानते है क्योंकि जिस प्रकार से सोना का मोल अधिक है उससे कही जादा एक वृक्ष का मोल है | पेड़ एक प्रकार से पृथ्वी के रक्षक है|

वृक्ष की रचना 

वृक्ष हमारे देश निम्न प्रकार के उपलब्ध है| जिसकी रचना शब्दों में नहीं की जा सकती किन्तु अलग अलग वृक्ष के अलग अलग फायदे है |

जैसे की कुछ पेड़ का उपयोग औषधियों के रूप में किया जाता है कुछ पेड़ मोटे, घने, लम्बे, चौड़े छायादार पत्तेवाले इत्यादि की रूप में पाए जाते है |

वृक्ष से होने वाले लाभ 

पर्यावरण का शुद्धिकरण तथा वायुप्रदुषण में हो रही बढ़ोत्तरी को कम करने में पेड़ हमारी बहुत सहायता करते है | पृथ्वी पर स्थित प्रत्येक प्रकार के जीवो पर वृक्ष का एक महत्वपूर्ण योगदान है |

वृक्ष का सही अर्थ भरी दोपहर में ज्ञात होता हैं जब दूर दूर तक कोई भी छत नहीं मिलती और थके हुए होते है, तब यदि एक वृक्ष दिख जाए तो मानो की स्वर्ग मिल गया हो |

वृक्ष से हमे अन्य, फुल, फल, छाया तथा औषधीय  प्राप्त होती हैं| हाँ यह सत्या हैं की हम जितना पेड़ पौधे लगायेंगे उतना ही हमारा वातावरण सुद्ध होगा और यह सबके लिए उचित है |

प्राचीन समय में जब गैस तथा हीटर ओवन नहीं हुआ करता था तब पेड़ के छल तथा उसके सूखे लकडियो को जला कर भोजन पकाया जाता था और पेड़ के इन सब अवशेषों को हम ईंधन के नाम से भी जाना जाता हैं |

वृक्ष लगाने का महत्व 

वृक्ष जैसे अमूल्य संसाधन की कमी होने के कारण ग्लोबल वार्मिंग,सुखा,अकाल जैसी स्थिति,तथा जल आपूर्ति की समस्या का सामना करना पड़ता है| हमारा भारत देश विभिन्न धर्मो का लोकतान्त्रिक देश है|जहाँ पर ऋषि मुनियों और प्राचीन के मान्यताओं के अनुसार वृक्ष लगाने को पुत्र जन्म के महत्व के सामान बताया हैं |

वृक्ष का महत्व यह भी है की यदि वृक्ष धरती पर नहीं रहेगा तब मनुष्य भी ज्यादा समय तक नहीं रहेगा | वृक्ष धरती के संतुलन का एक मात्र सहारा है|

आज के आधुनिक जीवन में मनुष्यों ने तो अपने लिए निवास स्थान बना लिया है, किंतु पशु-पक्षियों के निवाश के लिए एक मात्र वृक्ष तथा जंगले ही सहारा है यदि यह भी नष्ट हो जायेगा तो पशु पक्षी तथा मवेशीयों की मृतु हो जायेगा |

निष्कर्ष :

हमारी भारतीय संस्कृति में वृक्षों की पूजा की जाती है एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमारा यह कर्तव्य बनता है, की हमें यह एक जिम्मेदारी से करना चाहिए |

अतः हमें चाहिए की हम अपने आस पास पौधारोहण करना चाहिये इससे भूस्खलन तथा भू- क्षरण जैसे समय से बचा जा सकता है |

कुछ लोग स्वार्थ के हेतु सुखी लकड़ी को ईधन के रुप में जलने के लिए वृक्षों की अँधा धून कटाई करते है |इसे रोकना चाहिये नहीं तो वृक्षारोपण का भी कोई महत्व नहीं होगा|

Updated: February 22, 2019 — 9:21 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *