गुरु पूर्णिमा पर निबंध कक्षा ४ के लिए – पढ़े यहाँ Guru Purnima Essay In Hindi For Class 4

प्रस्तावना :

हमारे देश का यह सबसे बड़ा भारतीय पर्व हैं | इस त्यौहार को हिन्दू और बौद्ध धर्म के लोग बहुत उत्साह से मनाते हैं | सीख धर्म में भी गुरु पूर्णिमा का बहुत महत्व हैं | इस दिन गुरु यानि शिक्षक का सम्मान के रूप में मनाया जाता हैं |

हर किसी के जीवन में गुरु का होना बहुत महत्वपूर्ण होता हैं | हर किसी बच्चों को अपने गुरु से ही हर चीज का ज्ञान प्राप्त होता हैं | वो उसके जीवन को सफल बनाने का और सही रास्ते पर चलने का मार्ग दिखता हैं |

गुरु शब्द का अर्थ –

गुरु यह शब्द दो शदों से मिलकर बनता हैं – गु + रु | गु का मतलब होता हैं – अंधकार (अज्ञान) और रु का मतलब होता हैं – प्रकाश | गुरु अपने शिष्यों को अंधकार यानि ज्ञान रुपी प्रक्षा की तरफ ले जाता हैं |

गुरु पूर्णिमा यह त्यौहार कब मनाया जाता है –

गुरु पूर्णिमा यह त्यौहार हिन्दू कैलेंडर के अनुसार आषाढ़ माह की पूर्णिमा को मनाया जाता हैं | येसा माना जाता हैं की, गुरु की पूजा करने से गुरु की शिक्षा का फल उनके शिष्यों को मिलता हैं |

गुरु का जीवन में महत्व 

गुरु का जीवन में बहुत महत्व होता हैं | गुरु का महत्व सिर्फ शिक्षा के क्षेत्र में ही नही होता हैं | बलि अन्य क्षेत्र में भी किया जाता हैं | कई लोगो को कुछ ना कुछ प्राप्त करने के लिए वो गुरु के शरण में जाते हैं |

आज के युग में लोगो में आध्यात्मिक शांति नही देखने के लिए मिलती हैं | देश में कई गुरुओं के भाषण के द्वारा लोगों के तनाव को मुक्त कर रहे हैं | आज लोग घर, संपत्ति, धन – दौलत इत्यादि चीजे ज़मा करने के लिए अंधे हो गए | लोगो के जीवन में तनाव भर गया है | लोग छोटी-छोटी बातों पर लड़ना झगड़ना शुरू हो जाते हैं |

स्कूल में आयोजन

गुरु पूर्णिमा का आयोजन स्कूल, कॉलेज और महाविद्यालयों में भी किया जाता हैं | इस त्यौहार के अवसर पर सभी गुरुओं का, शिक्षकों को सन्मानित किया जाता हैं | उनके सम्मान के लिए कई लोग भाषण, नाटक और अन्य स्पर्धा रखते हैं | स्कूल में बच्चे शिक्षकों को फुल मालाए और अपने द्वारा बनाया गया गिफ्ट भी देते हैं | इस गुरु पूर्णिमा इस त्योहार को मनाकर गुरु और शिष्य का रिश्ता ओर भी मजबूत बन जाता हैं |

गुरु पूर्णिमा (व्यास पूर्णिमा)

इस गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहाँ जाता हैं | यह दिन महान ऋषि व्यास की पवित्र याद में मनाया जाता हैं | इस दिन प्राचीन संत ने चार वेदों का निर्माण किया | उन्होंने १८ पुराण, महाभारत और श्रीमद भागवत गीता को लिखा था |

निष्कर्ष:

इस त्यौहार को भारत देश में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता हैं | गुरु के बिना हर एक मनुष्य का जीवन अधुरा हैं | इसलिए हम सभी को गुरु के आज्ञा का पालन करना और उनको सम्मान देना यह हमारा कर्तव्य हैं | गुरु पूर्णिमा यह सबसे बड़ा ख़ुशी का त्यौहार माना गया हैं |

Updated: April 1, 2019 — 8:23 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *