जीएसटी पर निबंध कक्षा ४ के लिए – पढ़े यहाँ GST Essay In Hindi For Class 4

प्रस्तावना:

जीएसटी भारत सरकार के द्वारा चलाई गयी एक मुहीम हैं | जीएसटी यह वस्तु और सेवा के लिए व्यापक और बहु स्तरीय कर हैं |

यह एक ऐसी प्रक्रिया हैं, जो पुरे देश और वस्तुओं पर समान रूप से कर लागु करना | जीएसटी की वजह से आर्थिक क्षेत्रों में परिवर्तन होने लगा |

जीएसटी का प्रारंभ

हमारे देश में भारत सरकार के द्वारा १ जुलाई, २०१७ को जीएसटी लागु किया गया | भारत सरकारने अलग – अलग कर को हटाकर एक कर की व्यवस्था लागु कर दी गई | उसे वास्तु और सेवा का नाम दिया गया |

लेकिन सभी लोग इसे जीएसटी के नाम से जानते हैं | इसकी वजह से लोगों को काफी सुविधा मिल गयी | लोगों को अभी हर चीज के लिए अलग – अलग कर नहीं भरना पड़ता हैं |

जीएसटी कर क्या हैं –

जीएसटी को पूरी तरह से समझने के लिए दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया हैं – प्रत्यक्ष कर और अप्रत्यक्ष कर |

प्रत्यक्ष कर –

इसमें आयकर और संपत्ति कर शामिल हैं | इस कर में नागरिक भुगतानकर्ता होता हैं और सरकार कलेक्टर होता हैं | यह कर किसी व्यक्ति के द्वारा किसी व्यक्ति के इधे सरकार के पास चला जाता हैं |

अप्रत्यक्ष कर

इस कर में लक्जरी कर और सीमा शुल्क कर शामिल होते हैं | यह सीधे ग्राहक के द्वारा सरकार को भुगतान नहीं किया जाता हैं |

जिसमे प्रत्येक भाग लेने वाला व्यक्ति (जैसे ग्राहक, विक्रेता, सम्पूर्ण विक्रेता और निर्माता) इत्यादि अपने कर को भुगतान करते हैं |

जीएसटी के लाभ

जीएसटी की वजह से बहुत सारे लाभ हुए | लेकिन वस्तु और सेवा कर सामान बेचने वालों पर नहीं लगता हैं | बल्कि अप्रत्यक्ष रूप से सामान खरीदने वाले वस्तुओं पर लगता हैं |

जीएसटी की वजह से बहुत सारी चीजे सस्ती हो गयी | जीएसटी यह देश के लिए बहुत कल्याणकारक हैं | जीएसटी के कारण हमारे देश के अर्थव्यवस्था मजबूत हो गयी |

निष्कर्ष:

जीएसटी यह एक किसी भी देश की आर्थिक प्रणाली की रीढ़ होती हैं | हम सभी लोगों को देश को मजबूर बनाने में सहयोग देना चाहिये |

Updated: May 21, 2019 — 9:35 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *