बगीचे पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Garden Essay In Hindi

प्रस्तावना:

बगीचा एक हरियाली और सुन्दर फूलों का स्थान है | बगीचे में हरी – हरी हरियाली और सुन्दर – सुन्दर फूलो चारो तरफ खिले रहते है |

बगीचे में जितने भी सुन्दर सुन्दर फुल लगे रहते वो देखने में बहुत अच्छे लगते है और उनको देख के सभी लोग मदहोश हो जाते है | बगीचा कहा भी रहे लेकिन वो सब के मन को भाता है |

बगीचे की सुन्दरता

बहुत सारे बगीचे सुन्दर दिखते है | बगीचे में रंग बिरंगे फुल होते है जो सभी को आकर्षित करते है | बगीचे में खेलने के लिए छोटे बच्चो को एक मैदान रहता है और उसके आसपास झूले भी रहते है | लोग सुबह शाम इस बगीचे में टहलने के जाते है |                      

उस जगह पे जाके इन्सान को बहुत आनंद मिलता है | बच्चो को भी बहुत ख़ुशी हो जाती है | बगीचे में प्रकृति का सौंदर्य देखकर मन एकदम हल्का हो जाता है और चेतना का नया संचार मिल जाता है | बगीचे में फूलों की सुन्दर खुशबू आने लगती है उसके वजह से मन को स्फूर्ति मिल जाती है |

अनेक प्रकार के पेड़

बगिचा में जैसे अलग अलग रंग बिरंगे फुल होते है वैसे ही तरह तरह के पेड़ भी होते है | बगीचा में अमरुद का पेड़, संतरे का पेड़, निम्बू का पेड़ ऐसे निरनिराले पेड़ देखने के लिए मिलते है |

सभी पेड़ समय समय पर फुल और फल देते है | पेड़ो पर कही पक्षी अपना घोसला बनाकर रहते है | हर सुबह में पक्षियों की चहकने की आवाज सुनाई देती है |

फूलों के प्रकार

जिसके कारण बगीचा इतना सुन्दर दिखता है वो है फुल | फूलों के अनेक प्रकार होते है | बगीचे में तरह तरह के फूलों के पौधे लगे हुए रहते है | जैसे की गुलाब, चमेली, झेंडू, जाई- जुई और हर तरह के फूलों की वजह से बगीचा बहुत सुन्दर दिखता है | फूलों की वजह बगीचों की शान बाद जाती है |

मौजमजा

सभी लोग छुट्टी के दिन बगीचे में टहलने जाते है | उनके साथ साथ बच्चे लोग भी जाते है | बगीचे में जाकर बच्चो को बहुत ख़ुशी हो जाती है | वो दिन भर बहुत सारी मौज मजा करते है | बगीचे में बच्चो को खेलने के लिए बहुत सारे खिलोने रहते है |

बच्चो को स्कूल में बगीचा के बारे में पढाया जाता है और फूलों के बारे में भी बताया जाता है | उनको जो फूलों के सम्बंधित किताबो से ज्ञान मिलता है वो उनको बगीचा में साक्षात् रूप में सझज जाता है |

इस बगीचे का आनंद लोग अपने बालकनी से भी ज्यादा लेते है | बगीचों को देखकर हर व्यक्ति मन कोमल बन जाता है और बुरी भावनाए दूर हो जाती है |

निष्कर्ष:

यदि बगीचे नही होंगे तो लोग प्रकृति के चेतना का आनंद नही ले पाएंगे | प्रकृति के साथ साथ इन्सान को छोटे छोटे बगीचो का विकास करना चाहिए | इसलिए बगीचा बहुत पसंद है और उससे आनंद मिलता है |

Updated: February 27, 2019 — 5:32 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *