ईंधन पर निबंध कक्षा ५ के लिए – पढ़े यहाँ Fuel Essay In Hindi For Class 5

प्रस्तावना:

मनुष्य अपने जीवन में अन्य प्रकार के ईंधनों का उपयोग करता हैं | ईंधन का उपयोग आसानी से विभिन्न कार्यों को पूरा करने के लिए किया जाता हैं |

मनुष्य के जीवन में खाना, कपडा और मकान यह चीजे सबसे ज्यादा जरुरी हैं | लेकिन मनुष्य अपने हर एक कार्य को पूरा करने के लिए इंधनों का प्रयोग करता हैं |

उदा; पेट्रोल, डीजल, एलपीजी, लकड़ी, कोयला, गोबर, कोयला गैस, केरोसिन यह सभी इंधनों के उदहारण हैं |

ईंधन किसे कहते हैं –

किसी भी प्रकार के प्राकृतिक संसाधन को जैसे वाहनों, मशीनों और कारखानों में उर्जा के रूप में स्त्रोत का उपयोग किया जाता हैं, उसे ईंधन कहा जाता हैं |

दैनंदिन जीवन में ईंधन का उपयोग

पेट्रोल और डीजल

पेट्रोल और डीजल का उपयोग कार, बस, स्कूटर और बाइक इन सभी वाहनों में किया जाता हैं | इन वाहनों का उपयोग मनुष्य एक जगह से दुसरे जगह पर जाने के लिए करता हैं |

इन ईंधनों का निर्माण और उत्पादन की क्षमता सबसे अधिक हैं | इसलिए यह इंधन काफी महंगे भी मिलते हैं |

एलपीजी गैस

आज के दैनंदिन जीवन में एलपीजी गैस का उपयोग हर घरों में किया जाता हैं | एलपीजी गैस का उपयोग खाना बनाने के लिए पूर्ण रूप से किया जाता हैं | यह गैस साफ तरीके से जलती हैं और इसकी वजह से हवा दूषित भी नहीं हो जाती हैं |

लकड़ी का उपयोग

पेड़ों के लकड़ी का उपयोग भी ईंधन के रूप में ही किया जाता हैं | ग्रामीण भागों में पेड़ों के लकड़ी का प्रयोग खाना बनाने के लिए और पानी गर्म करने के लिए किया जाता हैं | यह भी एक प्रकार का इंधन हैं | गावों में इसका उपयोग सबसे ज्यादा किया जाता हैं |

ईंधन प्रदुषण का कारण

पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधन हो स्वच्छ ईंधन नहीं है | इनके द्वारा हवा प्रदुषण और ध्वनि प्रदुषण की समस्या निर्माण हो जाती हैं | इन दोनों इंधनों का ज्यादातर उपयोग वाहनों में किया जाता हैं |

इन वाहनों में से निकलने वाला धुआँ के कारण हवा दूषित हो जाती हैं और वाहनों के शोर की वजह से ध्वनि प्रदुषण हो जाता हैं |

देश में ईंधन का उत्पादन

इस भारत देश में भिन्न भिन्न इंधनों का उत्पादन किया जाता हैं | इस देश के असम राज्य का डिगबोई शहर और पश्चिमी अपतटीय अपने तेल के भंडार के लिए प्रसिद्ध हैं | गुजरात और असम में गैस का उत्पादन होता हैं | इसके साथ – साथ अरुणाचल प्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, त्रिपुरा और आंध्र प्रदेश यह कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस के भंडारों के मुख्य स्थान हैं |

निष्कर्ष:

हम सभी लोगों को मिलने वाले इंधन संसाधनों को बर्बाद नही करना चाहिए | बल्कि इंधनों को बचाके रखना चाहिए | बचा हुआ ईंधन अगले भावी पीढ़ी के जीवन में काम आएगा | सभी लोगों को इंधनों के महत्व को समझना चाहिए | इन सभी इंधनों का प्रयोग ऐसा करना चाहिए की आने वाले पीढ़ी को उसका लाभ हो सके |

Updated: April 12, 2019 — 11:06 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *