स्वतंत्रता सेनानियों पर निबंध – पढ़े यहाँ Freedom Fighters Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारी भारतभूमि महान पुरुषों की भूमि मानी जाती हैं | इस भारतभूमि पर बहुत सारे महान पुरुषों ने जन्म लिया हैं | हमारा भारत देश यह एक ऐसा देश हैं, जहाँ पर बहुत से महान स्वतंत्रता सेनानी हुए हैं |

उन्होंने अपने भारत देश को ब्रिटिश सरकार से आजादी दिलाने के लिए अपना जीवन समर्पित किया हैं | देश के आज़ादी के लिए उन्होंने अपनी जान गँवा दी थी | उनकी वजह से आज हम सभी किसी के भी आश्रित नहीं हैं |

स्वतंत्रता सेनानी

किसी भी देश को आज़ादी दिलाने या स्वतंत्र करने के लिए स्वतंत्रता सेनानी महत्वपूण भूमिका निभाते हैं | यह व्यक्ति अपने देश के लिए तन – मन – धन सबकुछ न्योछावर करते हैं |

आज उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों की वजह से हमारा भारत देश आजाद हैं और इस स्वतंत्र भारत के नागरिक हैं |

अपने देश को स्वतंत्रता दिलाने के लिए प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग देने वाले व्यक्तियों को ‘स्वतंत्रता सेनानी’ कहते हैं |

महात्मा गाँधी, सुभाषचंद्र बोस, भगतसिंग, चंद्रशेखर आजाद, रामप्रसाद बिस्मिल, राजगुरु. लोकमान्य तिलक, लाल बहादुर शास्त्री इन सभी वीरों ने भारत देश के लिए हँसते – हँसते अपने प्राणों का बलिदान दिया |

भारत के स्वतंत्रता सेनानी

महात्मा गाँधी

महात्मा गांधीजी का जन २ अक्टूबर, १८६९ को गुजरात के पोरबंदर नामक स्थान पर हुआ | सभी लोग गांधीजी को प्यार से ‘बापू’ कहते थे | हमारे भारत देश को आज़ादी दिलाने के लिए इनका महत्वपूर्ण योगदान हैं |

इन्होंने देश को आज़ादी दिलाने के लिए सत्य और अहिंसा का मार्ग अपनाया था | महात्मा गाँधी जी ने भारत छोड़ो आंदोलन, असहयोग आंदोलन, खेडा सत्याग्रह, चम्पारण आंदोलन इत्यादि हमारे देश को आजाद करने के लिए किये |

सुभाषचंद्र बोस

नेताजी सुभाषचंद्र बोस इनका जन्म २३ जनवरी, १८९७ को ओड़िसा के कटक शहर में हुआ था | इनको सभी लोग ‘नेताजी’ कहते थे |

नेताजी सुभाषचंद्र बोस इन्होंने देश को आजाद करने के लिए ‘आजाद हिन्द सेना’ की स्थापना की | उनका प्रसिद्ध नारा थे – ‘तुम मुझे खून दों! मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा’ |

भगतसिंग

इनका जन्म २७ सितम्बर, १९०७ को पंजाब में हुआ था | इनके मन में बचपन से ही देश भक्ति की भावना भरी हुई थी | भगतसिंग बचपन से ही अपने देश के लिए कुछ करना चाहते थे |

भगतसिंग, राजगुरु और सुखदेव इन तीनों ने साथ मिलकर ‘लाहौर षड्यंत्र’ किया था | ८ अप्रैल, १९२९ को भगतसिंग और बटुकेश्वर दत्त इन्होने विधान सभा पर बम्ब फेका |

लाल बहादुर शास्त्री

इनका जन्म २ अक्टूबर, १९०४ को मुगलसराय में हुआ था | हमारे देश को आज़ादी दिलाने के लिए इन्होंने बहुत सारे आंदोलनों में सहभाग लिया था |

इन्होंने ‘जय जवान, जय किसान’ यह नारा लगाया था | सन १९३० में दांडी यात्रा और सन १९४२ में भारत छोड़ो आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी |

मंगल पांडे

मंगल पांडे जी ने सन १८५७ के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में मुख्य भूमिका निभाई हैं | इनका जन्म १९ जुलाई, १८२७ को बलिया के ब्राह्मण परिवार में हुआ था | इन्हें ८ अप्रैल, १८५७ को विद्रोह के लिए फांसी की सजा दी गयी |

निष्कर्ष:

इन सब स्वतंत्रता सेनानियों के मन देशभक्ति की भावना भरी हुई थी | सभी स्वतंत्रता सेनानियों के कारण हमारे देश को आज़ादी प्राप्त हुई | इन सभी स्वतंत्रता सेनानियों का नाम भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा हुआ हैं |

Updated: May 18, 2019 — 11:27 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *