रक्षाबंधन पर निबंध – पढ़े यहाँ Rakshabandhan Essay In Hindi

प्रस्तावन :

हम सभी जानते हैं की भारत एक त्योहारों का देश है | भारत में भिन्न भिन्न प्रकार के त्यौहार पुरे वर्ष मनाये जाते हैं | हर एक त्यौहार का खुद में एक विशेष महत्व है| रक्षाबंधन त्यौहार भाई बेहेन के प्रेम को दर्शाने वाला त्यौहार है|

यह त्यौहार भारत के गुरु शिष्य की परंपरा को भी दर्शाता है | यह पर्व दान को दर्शाने वाला पावन पर्व कहलाता है | ये त्यौहार भाई और बहनों के दिन को दर्शाता है|

रक्षा बंधन भारत के श्रवण महीने के पूर्णिमा के दिन मनाया जाने वाला त्यौहार है| पुराने समय में ऋषि और मुनि आश्रम में रह कर यज्ञ और अध्यन करते थे| 

श्रवण महीने के अंत में यज्ञ की समाप्ति होती थी| यज्ञ ख़तम होने के बाद यजमानो और शिष्यों के हाथो में रक्षा बंधने के परंपरा थी| इस परंपरा के बाद से ही इस त्यौहार का नाम रक्षा बंधन के नाम से प्रसिद्ध हो गया| सालो से चली परंपरा के अनुसार आज भी ब्राम्हण रक्षा अपने यजमानो को बंधाते हैं| इस रक्षा को हम राखी भी कहते हैं|

रक्षा बंधन का महत्व

रक्षा बंधन एक हुन्दुवों का प्रमुख त्यौहार है| यह अगस्त महीने में मनाया जाता है| ईस दिन बहन अपने भाई के हाथ की कलाई पे राखी बांधती है और वही उसे वचन देता है की वो सदा उम्र उसकी रक्षा करेगा| इस दिन घरो में ढेर सारी मिठाई आती है और सब खाते हैं|

रक्षा बंधन मानाने की विधि  

रक्षा बंधन दिन में मनाया जाता है और इस दिन घर में भाई बहन नए नए कपडे पहनते हैं| बेहेन अपने भाई के माथे पे तिलक अभिषेक करती है और आरती भी करती है| उस के बाद वो अपने हाथो से अपने भाई की कलाई पे राखी बांधती है|

फिर वो एक दुसरे के साथ मिठाइयों का लेन देन करते हैं| ये सारी प्रक्रिया के दौरान वो अपने भाई की भविष्य की शुभकामना के लिए प्राथना करती है| भाई अपने बहन को उपहार देते हैं और प्रतिज्ञा करते हैं की वो सदैव उसके साथ रहेंगे हर परिस्थिति में |

दोनों भाई बेहेन राखी बांधने और बंधवाने से पहले व्रत रहते हैं जिसमे वो कोई भी खाना नही खाते|

 रिश्ते 

राखी सिर्फ सगे भाई को नही बंधी जाती बल्कि चचेरा भाई बहन भी आपस में इस त्यौहार को मानते हैं| परिवार के सभी सदस्य एक साथ इक्कठा होते हैं और इस त्यौहार को मानते हैं| आज के व्यस्त जीवन में लोगो को एक दुसरे से मिलने का समय नही है और इस व्यस्तता भरे जीवन में ऐसे त्योहारों के वजह से लोग एक दुसरे से मिल पते हैं|

तात्पर्य

रक्षा बंधन महिलाओ को उत्साहीत करने वाला पर्व है जिससे वो काफी खुश होती हैं| उन्हें नए नए कपडे खरीदने का मौका मिलता है| इस त्यौहार में भाई उन्हें ऊपर देता है जिससे वो और भी खुश होती हैं | 

Updated: February 21, 2019 — 1:22 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *