पर्यावरण प्रदुषण पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay On Environmental Pollution In Hindi

प्रस्तावना:

आज के समय में प्रदूषण यह एक सबसे बड़ा मुद्दा और समस्या बन गयी हैं | यह सभी के जीवन की सबसे बड़ी समस्या हैं |

अन्य प्रकार के प्रदूषण के कारण पर्यावरण पर बहुत प्रभाव पड़ रहा हैं | प्रदूषण किसी भी तरह का हो लेकिन उसका सबसे ज्यादा परिणाम पर्यावरण और सभी सजीव सृष्टि पर होता हैं |

प्रदूषण की वजह से हमारी पृथ्वी दूषित होती जा रही हैं और उसका संतुलन बिगड़ता जा रहा हैं | प्रदूषण के कारण जल, वायु और अन्य प्रकार की सभी चीजे प्रदूषित होती जा रही हैं |

प्रदूषण का अर्थ –

पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ होता है – पर्यावरण का विनाश होना | कई हानिकारक चीजों के कारण पूरा पर्यावरण दूषित होता हैं उसे ‘पर्यावरण प्रदूषण’ कहते हैं |

प्रदूषण के कारण

पर्यावरण प्रदूषण का मुख्य जिम्मेदार मनुष्य होता हैं | मनुष्य अपनी सुख – सुविधां और स्वार्थ को पूरा करने के लिए ऐसी चीजों का उपयोग कर रहा हैं, जिसे बनवाने के लिए हानिकारक पदार्थों का प्रयोग किया हैं |

यह चीजे एक बार इस्तेमाल करने से उसे फेका जाता हैं | जिसकी वजह से हानिकारक रासायनिक केमिकल्स वातावरण में घुलमिल जाते हैं और पर्यावरण को दूषित करते हैं |

प्रदूषण के प्रकार

प्रदूषण के कई सारे प्रकार हैं | लेकिन उन सभी प्रकारों में से तीन प्रकार का प्रदूषण यह पर्यावरण पर सबसे ज्यादा प्रभाव डालता हैं | जैसे की जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण |

जल प्रदूषण

आज के समय में बड़े – बड़े शहरों में कारखानों की निर्मिती की गयी हैं और उसमे से निकलने वाला दूषित जल नदी – नालों में छोड़ दिया जाता हैं | यह दूषित जल नदी – नालों में मिलने के कारण जल प्रदूषण की समस्या निर्माण होती हैं |

जब बाढ़ आती हैं तो कारखानों का दूषित जल और कूड़ा – कचरा नदी – नालों में घुलमिल जाता हैं | उसकी वजह से अन्य प्रकार की बीमारियाँ पैदा हो जाती हैं |

वायु प्रदूषण

मनुष्य को अपना जीवन जीने के लिए शुद्ध हवा की जरुरत होती हैं | परन्तु आज अन्य कारणों के कारण हवा दूषित होती जा रही हैं |

कारखानों का धुआ और वाहनों में से निकलने वाले धुएं की वजह से हवा यानि वायु दूषित हो रही हैं | उसकी वजह से मनुष्य को साँस लेना भी बहुत मुश्किल हो गया हैं |

ध्वनि प्रदूषण

मनुष्य को रहने के लिए शांत वातावरण की जरुरत होती हैं | परंती आज कारखानों में चलने वाली मशीनों का शोर, लाऊड स्पीकरों का शोर और वाहनों का शोर इसकी वजह से ध्वनि प्रदूषण की समस्या निर्माण हो रही हैं | इसका परिणाम मनुष्य के स्वास्थ्य पर हो रहा हैं | मनुष्य बहरेपन का शिकार हो रहा हैं |

निष्कर्ष:

प्रदूषण यह सभी के बहुत हानिकारक हैं | इसलिए प्रदूषण की समस्या को रोकने के लिए सभी लोगों को प्रयास करना चहिये |

सभी लोगों को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने चाहिए | मनुष्य को वाहनों का उपयोग कम करना चाहिए | उसके साथ – साथ सभी लोगों में जागरूकता फैलानी चाहिए |

Updated: June 17, 2019 — 8:20 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *