दशहरा पर निबंध १०० शब्दों में – पढ़े यहाँ Essay On Dussehra In Hindi 100 Words

प्रस्तावना:

हमारी भारतभूमि यह त्योहारों की भूमि मानी जाती हैं | इस देश में अन्य प्रकार के त्यौहार मनाये जाते हैं | हमारे भारत देश में हर एक त्यौहार का बहुत महत्व हैं | दशहरा यह हिन्धू धर्म का महत्वपूर्ण त्यौहार |

भारत देश के सभी धर्म लोग हर एक त्यौहार को बहुत ख़ुशी और धूमधाम से मनाते हैं | दशहरा इस त्यौहार को ‘विजयादशमी’ इस नाम से भी जाना जाता हैं | दशहरा यह त्यौहार भारत के सभी धार्मिक त्योहारों में से एक हैं |

दशहरा कब मनाया जाता हैं –

दशहरा यह त्यौहार अश्विन माह के शुक्ल पक्ष दशमी को मनाया जाता हैं | दशहरा यह त्यौहार दस दिनों तक मनाया जाता हैं | हमारे देश में यह त्यौहार पुरे रीती रिवाज और परंपरा के अनुसार मनाया जाता हैं |

दशहरा यह त्यौहार विभिन्न प्रान्तों में अलग – अलग तरीके से मनाया जाता हैं | इस त्यौहार में ९ दिनों तक माँ दुर्गा के भिन्न – भिन्न रूपों की पूजा की जाती हैं |

दशहरा त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं –

ऐसा कहा जाता हैं की, भगवान श्रीराम के भाई लक्ष्मण ने रावण की बहन के नाक – कान काट दिए थे | उसका बदला लेने के लिए रावण ने सीता का अपहरण किया था |

उसके कारण रावण और भगवान श्रीराम में युद्ध हुआ और भगवान श्रीराम ने विजयादशमी के दिन रावण का वध करके विजय प्राप्त किया था |

इस दिन भगवान श्रीराम, पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण यह तीनों अपने अयोध्या नगरी वापस लौट आए थे |

इस दिन माँ दुर्गा ने नौ दिनों तक महिषासुर नामक राक्षस के साथ युद्ध किया था और विजयादशमी के दिन माँ दुर्गा ने महिषासुर का वध किया | इसलिए यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई के जीत का प्रतीक माना जाता हैं |

दुर्गा पूजा

इस त्यौहार में अलग – अलग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता हैं | दशहरा इस त्यौहार में नौ दिनों तक माँ दुर्गा के अलग – अलग रूपों की पूजा की जाती हैं | इस नौ दिनों में कई सारे लोग उपवास रखते हैं |

नौ दिनों तक सुबह और शाम को माँ दुर्गा की पूजा करते हैं | माँ की आरती करने के बाद प्रसाद बांटा जाता हैं | इस दिन कई सारे लोग माँ के मंदिर भी जाते हैं |

रामलीला का आयोजन

कई जगह पर रामलीला का आयोजन किया जाता हैं | इसमें लोग रामायण के सभी पत्रों का रूप धारण करते हैं | इस रामलीला में भगवान श्रीराम के वनवास से लेकर रावण वध तक का वर्णन प्रस्तुत किया जाता हैं |

शहरों और गावों में रालिला का मंचन निश्चित स्थान पर किया जाता हैं | रामलीला के माध्यम से लोगों को यह संदेश दिया जाता हैं की हमेशा अच्छाई की ही जीत होती हैं |

निष्कर्ष:

दशहरा यह त्यौहार खुशियों से भरा हुआ त्यौहार हैं | यह त्यौहार लोगों के जीवन में नई उर्जा प्रदान करता हैं | हमें माँ दुर्गा की तरह बुराई का अंत करने के लिए प्रतिबद्ध रहना चाहिए और बुराई के सामने कभी झुकना नहीं चाहिए |

भगवान श्रीराम के जीवन से यह सीख मिलती हैं की, हमेशा शांत रहना चाहिए और हमेशा सत्य का रास्ता अपनाना चाहिए |

Updated: June 15, 2019 — 11:50 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *