दिवाली पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay On Diwali In Hindi Language

प्रस्तावना:

भारत देश के सभी त्योहारों में से दिवाली यह हिन्दू धर्म का प्रमुख और महत्वपूर्ण त्यौहार हैं | हमारे देश में रहने वाले सभी जाती और धर्म के लोग हर एक त्यौहार को बहुत ख़ुशी और उत्साह के साथ मनाते हैं |

इस त्यौहार को रोशनी और प्रकाश का त्यौहार कहा जाता हैं | दिवाली का यह त्यौहार हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता का खास त्यौहार हैं |

इस त्यौहार के साथ कई सारी धार्मिक मान्यताएं भी जुड़ी हुई हैं | इस त्यौहार को पुरे रीती – रिवाज और परंपरा के अनुसार मनाया जाता हैं |

दिवाली का अर्थ –

दिवाली यह शब्द दो शब्दों से बना हुआ हैं – दीप + आवली | दिवाली का अर्थ होता हैं – दीपों की पंक्ति या अवली | इस प्रकार से दीपों की पंक्तियों सुशोभित किया जाता हैं इसलिए इसे त्यौहार को दिवाली कहा जाता हैं |

दिवाली कब मनाई जाती हैं –

दिवाली यह त्यौहार हर साल कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता हैं | यह अमावस्या की रात बहुत अँधेरी रात होती हैं | इसलिए इस दिन असख्य दीपों को जलाकर इसे रोशन किया जाता है |

दिवाली क्यों मनाई जाती हैं –

इस दिन भगवान श्रीराम १४ वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या वापस लौट आए थे | इसलिए उनका स्वागत करने के लिए सभी अयोध्या वासियों ने घी के असंख्य दीप जलाये थे | इस दिन बुराई पर अच्छाई की जीत हुई थी | इस ख़ुशी में यह त्यौहार मनाया जाता हैं |

दिवाली की तैयारी

दिवाली का इंतजार सभी लोग बहुत बेसब्री से करते हैं | दिवाली यह त्यौहार आने से कुछ दिन पहले घर की साफ – सफाई की जाती हैं | सभी दुकानदार अपनी दुकानों की साफ – सफाई करते हैं |

कई सारे लोग अपने घर और दुकान को पेंटिंग करते हैं | सभी स्त्रियाँ इस दिन घर के सामने रंगोली सजाती हैं | सभी बच्चे और बड़े लोग पटाखे जलाकर अपनी खुशियाँ व्यक्त करते हैं | इस दिन सभी लोग गणेश, लक्ष्मी और अन्य देवताओं की पूजा करते हैं |

दिवाली का महत्व

दिवाली का यह त्यौहार पांच दिनों तक चलने वाला सबसे बड़ा त्यौहार हैं | यह त्यौहार सभी दुकानदार और व्यापारियों के लिए सबसे प्रमुख हैं, क्यों की इस दिन सबसे ज्यादा बिक्री होती हैं | उन्हें ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाने का मौका मिलता हैं |

धनतेरस

दिवाली का पहला दिन धनतेरस के रूप में बनाया जाता हैं | इस दिन नया बर्तन खरीदना शुभ माना जाता हैं |

छोटी दिवाली

दिवाली का दूसरा दिन छोटी दिवाली के रूप में मनाया जाता हैं | इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने नरकासुर का वध किया था |

मुख्य दिवाली

दिवाली का तीसरा दिन मुख्य दिवाली के रूप में मनाया जाता हैं | इस दिन सभी लोग एक – दुसरे को बधाई देते हैं और पटाखे जलाकर अपने ख़ुशी को मनाते हैं |

गोवर्धन पूजा

दिवाली का चौथा दिन गोवर्धन पूजा के रूप में मनाया जाता हैं | इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने गोकुल को वर्षा से बचाने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी एक ऊँगली पर उठाया था |

भाईदूज

दिवाली का पांचवा दिन भाईदूज के रूप में मनाया जाता हैं | यह दिन सभी भाई और बहनों के लिए खास होता हैं |

निष्कर्ष:

दिवाली का यह त्यौहार सभी लोगों के जीवन में खुशियाँ प्रदान करता हैं | उन्हें नया जीवन जीने की प्रेरणा देता हैं | यह एक ऐसा त्यौहार हैं जो अपने अंदर के अंधकार को मिटाकर पुरे वातावरण को प्रकाशमय करता हैं |

Updated: June 17, 2019 — 1:54 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *