भारत की समस्या पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay on Bharat ki Samasya in Hindi

प्रस्तावना:

हमारा भारत वह महान देश है,जो पुरे विश्व में अपनी महान संस्कृत और पारंपरिक मूल्यों के लिये यह एक प्रसिद्ध देश है | हमारे भारत की राष्ट्रीय भाषा हिंदी है| भारत एक अत्याधिक जनसंख्या वाला देश है साथ ही प्राकृतिक रूप से सभी दिशाओं से सुरक्षित है | लेकिन हमारा देश का जितना स्वरूप है, उतना ही समस्याओं से घिरा हुआ है |

भारत में विभिन्न प्रकार के जाति-धर्म के वेश-भूषा धारण करने वाले लोग निवास करते हैं | एक दुसरे के शब्दों की अनेकता में ही हमारी एकता और गौरव है |

भारत की समस्या

भारत की समस्या हमारे देश की बहु ही भयंकर समस्या है| हमारे देश में विकास के साथ समस्याएँ भी प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं जिसके कारण देश के सभी नागरिकों को नुकसान उठाना पड़ रहा है| भारत की सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी है, लोग शिक्षित होकर कही तरह की डिग्रियां लेकर इधर-उधर भटक रहे हैं|लोगों को नौकरियां नहीं मिल रही हैं जिसके कारण हमारे देश के युवाओं का विश्वाश उठ गया है |

केवल शिक्षित ही नहीं हमारे कथित सभ्य-शिक्षित लोगों में दहेज़ का जहर व्याप्त है, जिससे प्रतिदिन भारतीय नारियाँ दहेज़ प्रथा के कारण मनुष्य के बर्बरता का शिकार हो रही हैं| हमारे भारत में जाति भाषा रहन-सहन व धार्मिक विभिन्नताओं के बीच कभी-कभी सामंजस्य स्थापित रखना दुष्कर हो जाता है |

जाति का भेदभाव

यहाँ विभिन्न धर्मों के बीच अलग-अलग विचारधाराएँ होती हैं जहाँ देश में प्रांतीयता, भाषावट, संप्रदायवाद तथा जातिवाद इन्हीं सब के कारण हमारा देश विभिन्नताओं का दुष्परिणाम है | भारत देश में आज भी कहीं जाति-पति को लेकर लोग दंगे-फसाद, मारकाट तथा लूट-पाट आदि के समाचार सुनने के लिए मिलते हैं |

देश में जाति-पति के प्रति आज भी लोग खिलाफ रहते हैं यहाँ जातिवाद की जड़ें बहुत गहरी हो चुकी है | यह समस्या आज का नहीं है बल्कि यह सदियों ,युगों से पनप रहीं हैं | इनके परिणामस्वरूप सामाजिक विषमता पनपती है जो देश के विकास में बाधक बन गई है

भारत का भ्रष्टाचार    

भारत में भ्रष्टाचार एक बीमारी की तरह हो गई है, यहाँ भ्रष्टाचार तेजी से बढ़ रही है| हमारा भारत देश जो सोने की चिड़िया कहलाने वाले देश में कुछ व्यक्ति के कारण हमारा देश भ्रष्टाचार के मामले में ९४वें स्थान पर है |

यहाँ भ्रष्टाचार के कई रंग-रूप हैं जैसे घूस यानी रिश्वत, कला-बाजारी, महंगाई, पैसा लेकर काम करना, सस्ता सामान लाकर महंगा बेचना, ब्लैकमेल करना, झूठी गवाही चुनाव में धांधली, परीक्षा में नक़ल आदि किये जा रहे हैं |

भारत की बेरोजगारी

भारत में बेरोजगारी की समस्या अत्यंत कष्टदायक तथा विपत्तिजनक समस्या है| हमारे देश की जनसंख्या लगभग १२० करोड़ है जिसके कारण बेरोजगारी के समस्या का समाधान करने में हमारी वर्तमान सरकार विफल रही है |

जबतक समाज में अशिक्षा और निर्धनता व्याप्त है, कोई भी देश वास्तविक रूप से विकास नहीं कर सकते है | इन समस्याओं का हल ढूँढना केवल सरकार का ही दायित्त्व नहीं है , इसके लिए जनजागृति आवश्यक है जिससे लोग जागरूक बनें व अपने कर्तव्यों को समझें |

Updated: September 20, 2019 — 8:09 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *