बेटी बचाओं, बेटी पढाओं पर निबंध – पढ़े यहाँ Essay On Beti Bachao In Hindi

प्रस्तावना:

इस धरती पर जीवन पुरुष और महिला इन दोनों के बिना संभव नहीं हैं | यह दोनों मानव जाती के अस्तित्व के लिए और देश के विकास के लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं |

इस जीवन में महिला यह पुरुषों से ज्यादा महत्वपूर्ण होती हैं | क्यों की उनके बिना मानव जाती की सातत्यता के बारे में कल्पना नहीं की जा सकती |

बेटी बचाओं, बेटी पढाओं योजना की शुरुवात

देश की सभी बेटियों की रक्षा और उनकी उन्नति के लिए हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीजी के द्वारा बेटी बचाओं, बेटी पढाओं इस योजना की शुरुवात की गयी हैं | इस योजना की शुरुवात सन २०१५ में जनवरी के महीने में हुई थी |

इस योजना की शुरुवात इसलिए करनी पड़ी क्योंकि हमारा भारत देश यह पुरातन संस्कृति और अच्छे विचारों वाला देश हैं | लेकिन देश के बेटियों को पढ़ाने और बचाने के लिए इस योजना का आरंभ किया गया हैं |

कन्या भ्रूण हत्या

कई लोगों की सोच थी की, लड़का यह हमारे वंश को आगे बढ़ाने वाला होता हैं और लड़की यह पराया घर का धन होती हैं | इसलिए कई लोग माँ के गर्भ में ही लड़कियों को मार देते थे |

तो कई लोग लड़कियों के शादी पर दहेज़ देना पड़ता हैं | उसके डर की वजह से लोग लड़कियों की हत्या करते थे |

लड़कियों पर अन्य प्रकार के हिंसात्मक अत्याचार भी किये जाते थे | इसलिए सरकारने लड़कियों को बचाने और पढ़ाने के लिए इस योजना की शुरुवात की हैं |

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना का मुख्य उद्देश्य

इस योजना के माध्यम से सभी लड़कियों को शिक्षा के लिए प्रेरित किया जायेगा | घर – घर में जाकर सभी लोगों को लड़कियों को पढ़ाने के लिए सुनिश्चित करना | लिंगजात और कन्या भ्रूण हत्या पर प्रतिबंध लगाना जरुरी हैं |

इस योजना के माध्यम से महिलाओं को समाज में उनके अधिकार दिए जायेंगे | अगर कोई लड़की पैदा होती हैं तो उसे अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं | इन सभी अत्याचारों को खत्म करने के लिए यह योजना बहुत ही अच्छी हैं |

बेटी बचाओं, बेटी पढाओं योजना की जरुरत

लड़की यह लड़कों से कम सक्षम नहीं होती हैं | लड़की एक आज्ञाकारी, कम हिंसक और अभिमानी होती हैं | लड़की हर एक जिम्मेदारी पूरी तरह से निभाती हैं | हर एक महिला जीवन में एक माता, पत्नी, बेटी और बहन की अहम् भूमिका निभाती हैं |

हर एक मनुष्य को सोचना चाहिए की उसकी पत्नी यह किसी आदमी की बेटी होती हैं और भावी भविष्य में उसकी बेटी वो किसी की पत्नी होती हैं | इसलिए हर एक महिला को समान रूप से देखना चाहिए |

निष्कर्ष:

हम सभी लोगों को लड़कियों को बचाने के साथ – साथ उनका समाज में स्तर सुधारने के लिए प्रयास करना चाहिए | उसके साथ – साथ लोगों को लड़कियों को लड़कों के समान समझना चाहिए | लड़कियां यह देश के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती हैं | देश और समाज में उन्हें प्यार देना चाहिए |

Updated: June 17, 2019 — 11:54 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *