पर्यावरण पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Environment Essay In Hindi

प्रस्तावना:

पर्यावरण एक मनुष्य जीवन में का महत्वपूर्ण घटक है। मनुष्य एक बुद्धिमान प्राणी है। मानवी जीवन जीने के लिए स्वच्छ वातावरण रहना बहुत जरुरी है। पर्यावरण शब्द का निर्माण दो शब्दों से बना हुआ है।

पर्यावरण = परी +आवरण अर्थात परी मतलब जो अपने चारो ओर है, और आवरण मतलब जो हमें चारो ओर से घेरे हुआ है उसे पर्यावरण कहलाते है।

पर्यावरण में सांस्कृतिक,भौतिक और नैसर्गिक इ तत्त्वों का समावेश होता है।  देश में ५ जून १९७३ को पहिला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया। पर्यावरण जैविक/अजैविक घटक क़ो का भी समावेश है। ५ जून को देश में (विश्व पर्यावरण दिवस) पर एक स्वछता अभियान रखा जाता है। जब की पर्यावरण में अजैविक घटकों में निर्जीव तत्व और उनसे जुडी प्रकिया भी आती है जैसे; पर्वत ,नदया, हवा,वायु  इ.

पर्यावरण व्याख्या 

हमारे आसपास का वातावरण जिसमे जींव, नदी, नाले, तलाव, पहाड़, पर्वत, पेड़ -पौधे जिसमे जीवित धारी रहते है उसे पर्यावरण कहते है।

पर्यवरणातील घटक

पर्यावरण में सांस्कृतिक, भौतिक और नैसर्गिक इ तत्त्वों का समावेश होता है। पर्यावरण मनुष्य के जीवन के लिए बहुत जरुरी है। मनुष्य को पर्यावरण से बहुत चीजे मिलती है। उसका दुरूपयोग मनुष्य करने लगा है। इसलिए पर्यावरण स्वच्छ और सुन्दर रखना चाहिए वो हर एक मनुष्य की जिम्मेदारी है। मनुष्य बहुत सारे पेड़ों और पौधो को काट के नैसर्गिक वातावरण प्रदूषित कर रहा है। मानव हस्तक्षेप के आधार पर पर्यावरण को दो भागो में बाटा गया है,एक प्राकृतिक/नैसर्गिक पर्यावरण और मानव निर्मित पर्यावरण.

घटक – नदी, नाले, वायु ,पानी ,पर्वत, जंगल, रसायन, संसाधने इ

नैसर्गिक घटक

मानव और पर्यावरण इसमें अतूट रिश्ता है। हमारी धरती पर ही ब्रम्हांड में एक ऐसा ग्रह है। जिसमे जीवन जीने के वातावरण आवश्यक है। जीवन को संभव बनाने के लिए हवा,पानी,वायू,अग्नि,जंगल,जानवर इ घटक शामिल है। हवा मनुष्य के जीवन के लिए बहुत जरुरी है। मनुष्य धरती पर प्रकृति द्वारा बनाये गए सबसे बुद्धिमान प्राणी है। इसलिए हर मनुष्य को पर्यावरण के बारे में जानना जरुरी है

प्रदुषण की समस्या

पर्यावरण मनुष्य की कुछ लापरवाही की वजह से दूषित हो रहा है। बहुत कारणों से पर्यावरण का संतुलन दूषित हो रहा है पर्यावरण में हवा प्रदुषण, जल प्रदुषण, ध्वनि प्रदुषण इन सब चीजों से प्रदुषण हो रहा है। हर मनुष्य को पर्यावरण स्वच्छ रखना चाहिए।

जल प्रदुषण

जल प्रदुषण बहुत कारणों से होता है। औद्योगिक विषारी पानी, सांडपाणी यह सब नदी,नाले,समुंदर इसमें छोड़ा जाता है, और पानी प्रदूषित होता है। इसके वजह से जल प्रदुषण होता है। पानी में बहुत सारे लोग गन्दा कचरा डालते है। उसके कारन पानी दूषित हो लगता है। वायु एक वातावरण मुख्य घटक है। वायु मनुष्य के लिए बहुत आवश्यक है। औद्योगिक कंपनियों के धुए से वायु को प्रदूषित कित्या जाता है।

पर्यावरण संरक्षण

हमें हमारा पर्यावरण को स्वास्थ्य और प्रदुषण से दूर रखने के लिए हर मनुष्य को अपना स्वार्थ और गलतियों को सुधारना होगा। लेकिन सकारात्मक आंदोलन की वजह से पर्यावरण में बदलाव हो सकता है। हवा प्रदूषण और जल प्रदुषण के कारण बीमारिया हो सकती है। इन सब कारणों का प्रभाव  मनुष्य जीवन पर पड़ सकता है। इसलिए पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचाना चाहिए।

निष्कर्ष

पर्यावरण एक जीवन का मुख्य घटक है | हमें पर्यावरण की रक्षा करनी चाहिए | उसकी रक्षा करने के लिए पर्यावरण को दूषित करने से बचाना चाहिए |

Updated: February 25, 2019 — 1:02 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *