पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध – पढ़े यहाँ Environmental Pollution Essay In Hindi

प्रस्तावना :

पर्यावरण प्रदूषण आज के समय में एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी हैं | प्रदूषण के कारण मनुष्य का जीवन जीना बहुत असंभव हो गया | प्रदूषण अलग – अलग प्रकार का होता हैं | लेकिन प्रदूषण की वजह से प्रयावरण का विनाश होने लगा हैं |

सब सजीव सृष्टी नष्ट होती जा रही हैं | प्रदूषण पर्यावरण के लिए बहुत हानिकारक हैं | प्रदूषण के कारण हमारे पृथ्वी का संतुलन बिगड़ रहा हैं | जिस धरती पर सजीव सृष्टी हैं वहा की सभी चीजे दूषित होने लगी हैं |

पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ 

पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ होता हैं – हमारे आसपास के प्रकृति का विनाश होना | प्रदूषण के कारण पूरा पर्यावरण दूषित हो जाता हैं |

प्रदूषण के प्रकार

मानव और पर्यावरण का सम्बन्ध पुरातन काल से हैं | इस पर्यावरण सजीव, निर्जीव्, जैविक और अजैविक घटकों का समावेश हैं | हमारे इस धरती पर जलचर, भूचर और उभयचर इत्यादि सजीव सृष्टी में रहती हैं | प्रदूषण के ६ प्रकार होते हैं | जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण, भूमि प्रदूषण, प्रकाश प्रदूषण, उष्मीय प्रदूषण इत्यादि दूषण के प्रकार हैं | लेकिन उनमे से ३ मुख्य प्रकार हैं |

जल प्रदूषण

कई लोग कारखानों में का दूषित पानी नदी, नाले और समुद्र में छोड़ देते हैं | इसलिए जल दूषित होता हैं | उसके कारण जल प्रदूषण भी हो जाता हैं |

नदी, नाले, तालाब और समुद्र में लोग कचरा भी फेकते हैं | जब बाढ़ आती हैं सभी जगह का दुर्गंधित कचरा नदी नालो में मिल जाता हैं और जल का प्रदूषण हो जाता हैं |

हवा प्रदूषण

air pollutionअन्य वाहनों और कारखानों में से निकलने वाले धुआ हवा में मिल जाता हैं | जिसके कारण हवा प्रदूषण की समस्या निर्माण हो जाती हैं |

शहरो में यह समस्या ज्यादा दिखाई देती हैं | हवा में रासायनिक द्रव्ये मिल जाती हैं इसके कारण हवा दूषित हो जाती हैं | और हवा प्रदूषण होता हैं |

ध्वनि प्रदूषण

मनुष्य को अपना जीवन जीने के लिए शांत वातावरण होना बहुत जरुरी हैं | लेकिन कारखानों का शोर, वाहनों के हॉर्न का आवाज, लाऊड स्पीकर के आवाज का परिणाम कानों पर हो जाता हैं | इसके कारण बहरेपन की समस्या निर्माण होती हैं |

प्रदूषण का मुख्य कारण

इस पर्यावरण का प्रदूषण होने के लिए खुद मनुष्य भी जबाबदार होता हैं | मनुष्य अपने स्वार्थ के लिए पर्यावरण का विनाश करता हैं | मनुष्य ऐसे बहुत सारी चीजों का उपयोग करता हैं जिसे बनाने के लिए हानिकारक वस्तुओं का इस्तेमाल किया जाता हैं |

जब कई चीजे बच जाती हैं तो इन्हें फेक दिया जाता हैं और हानिकारक केमिकल का मिश्रण होने के कारण वातावरण का संतुलन बिगड़ जाता हैं | और पर्यावरण का प्रदूषण होने लगता हैं |

निष्कर्ष :

हम सभी लोगो को प्रदूषण की समस्या को दूर करने के लिए सामाजिक जागरूकता की जरुरत हैं | इस धरती को और पर्यावरण का विनाश नही करना चाहिए |

उस पर्यावरण को स्वच्छ और सुंदर बनाके रखना चाहिए| हमे इस पर्यावरण से बहुत कुछ चीजे प्राप्त होती हैं | इसलिए इस पर्यावरण का दुरूपयोग नही करना चाहिए |

Updated: March 18, 2019 — 12:51 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *