विमुद्रीकरण पर निबंध – पढ़े यहाँ Demonetization Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारे देश में मोदी सरकार के द्वारा ८ नवम्बर को ५०० और १००० की नोट को बंद करने का आदेश दिया था | भारत सरकार ने सभी लोगो को ३० नवम्बर तक बैंक में जाकर अपना पैसा जमा करने के लिए कहा था |

विमुद्रीकरण का अर्थ –

जब सरकार पुरानी मुद्रा और सिक्के को बंद करके नई मुद्रा और सिक्को को लाने की घोषणा की जाती हैं उसे ‘विमुद्रीकरण’ कहा जाता हैं |

जब विमुद्रीकरण हो जाता हैं तब पुराने मुद्रा की कोई किम्मत नही रहती हैं | उसके बाद पुराणी मुद्रा को बैंक में जमा कर दिया जाता हैं |

नोटबंदी का कारण

नोटबंदी का इस्तेमाल भ्रष्टाचार, कालेधन, महंगाई और नकली नोटों पर काबू पाने के लिए किया जाता हैं | कई लोग कालेधन को छुपाकर रखते हैं | क्यों की उसपे लगने वाले कर से बच सके |

भ्रष्ट और आतंकवादी लोग पुराने नोटों का उपयोग करते हुए पकडे गए हैं | विमुद्रीकरण के कारण सामान्य लोगो को हर मुश्किलों का सामना करना पड़ा |

देश में नोटबंदी

हमारे देश में कई बार नोट बंदी पर प्रतिबंध लगाया था | देश में सन २००५ में मनमोहन सिंह के सरकार द्वारा ५०० की नोटों को बदलवा दिया था | सन १९७८ में मोरारजी ने १०००, ५००० और १०००० की नोटों को बंद किया गया था | देश में ५०० और १००० की नोटों का इस्तेमाल ज्यादा किया जाता हैं |

इन दो नोटों की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था का ८६% भाग काबिल कर दिया था | इसलिए इन दो नोटो का उपयोग बाजार में सबसे ज्यादा किया जाता था |

नोटबंदी

हमारे देश में ८ नवम्बर, २०१६ को ५०० और १००० नोटों को बंद करने का आदेश दिया गया | इस नोटबंदी का कई लोगो ने समर्थन किया और कई लोगों ने प्रधानमंत्री जी का विरोध किया |

जैसे ही नोट बंदी की घोषणा की गयी उसके दुसरे दिन से बैंक और एटीएम में लाइन लगाने लगी |

जो लोग काले धन को छुपा के रखे थे वो सुनारों के पास जाकर सोना खरीदने लगे | भारत सरकारने काले धन को बाहर निकालने के लिए बहुत सारे प्रयत्न किये |

नए नोटों का निर्माण

५०० और १००० की नोटों को व्यवहार में चलाने पर प्रतिबंध किया | लेकिन उन दोनों नोटों के बदले में ५०० और २००० की नोटों को चलाया गया | आज के युग में ५०० और २००० की नोटों का व्यवहार में इस्तेमाल होने लगा हैं

निष्कर्ष:

विमुद्रीकरण से हमारे देश को बहुत लाभ हुआ | विमुद्रीकरण का फायदा अन्य क्षेत्रों में हुआ हैं | सरकार ने यह फैसला देश के विकास के लिए किया था | यह फैसला देश को सशक्त, परिपूर्ण और सुखी भारत विकसित होने के लिए सहायक बनेगा |

Updated: April 2, 2019 — 1:42 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *