दिल्ली पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Delhi Essay In Hindi

प्रस्तावना :

भारत यह एक बहुत बड़ा देश है | भारत देश में कई सारे प्रदेश है | इस देश के बहुत सारे नगर है और इस नगरो की एक विशेषता है | कोई नगर सांस्कृतिक दृष्टी से महत्त्व रहता तो कोई ऐतिहासिक दृष्टी से परिपूर्ण रहता है |

दिल्ली भारत देश का एक बहुत बड़ा नगर है | दिल्ली हमारे देश की राजधानी है | दिल्ली एक ऐसा आइना है जिसमे भारत की सभी तस्वीरे दिखाई देती है |

दिल्ली की ऐतिहासिकता 

भारत देश की राजधानी दिल्ली का इतिहास बहुत पुराना है | दिल्ली एक ऐतिहासिक नगरी है | इस दिल्ली को सोने की चिड़िया भी कहा जाता है | देश और विदेश के अनेक शिल्पकारों ने इस दिल्ली का सौंदर्य बढाया है |

दिल्ली भारत वासियों की भूमि मानी जाती है | प्राचीन काल में इस दिल्ली पर अंग्रेजोने कब्जा कर लिया था | लेकिन गांधीजी, भगत सिंह और जवाहरलाल नेहरूजी ने स्वंतंत्रता की माँग की और बाद में अंग्रेजो को भारत छोड़कर जाना पड़ा |

दिल्ली में सभी जगह पे अंग्रेजों के निशानों को मिटाया गया और भारत के निशानों को स्थापित किया गया था | दिल्ली यह शहर बहुत अच्छा हैं |

दिल्ली की विशेषता 

दिल्ली में भारत देश के राजनीती के व्यवस्था का संसद भवन यह प्रमुख केंद्र है | यह एक बहुत सुन्दर भवन है | दिल्ली में मुग़ल उद्यान यह एक प्रसिद्ध उद्यान है | इस उद्यान का मुख्य आकर्षण गुलाब का फुल है |

दिल्ली का लाल किल्ला और जमा मस्जिद बहुत प्रसिद्ध है | लाल किल्ला यह एक भव्य इमारत है और यह ईमारत लाल पत्थर से बनी हुई है | इस लाल किल्ले के अन्दर दीवाने और संग्रहालय है | इस किल्ले को देखने बहुत सारे पर्यटक आते है |

दर्शनीय स्थल 

दिल्ली में बहुत दर्शनीय स्थल है | दिल्ली में हुमायू का मकबरा, पुराना किल्ला, चिड़िया घर और कमल मंदिर ऐसे बहुत सारे दर्शनीय स्थल है | जिसको देखने के लिए बहुत सारे लोग आते है |

कुतुबमीनार भी दिल्ली में स्थित है | यह एक सबसे ऊँची मीनार है | चिड़ियाघर अन्य पशु पक्षियों का दर्शन होता है | इस दिल्ली के उद्यानों को नगरी कहा जाता है |

निष्कर्ष :

दिल्ली भारत देश का एक ऐतिहासिक नगर है | यहाँ पर अनेक धर्म के लोग एकसाथ रहते है | दिल्ली में अनेकता में एकता भी दिखाई देती है |

इस दिल्ली शहर को लघु भारत के नाम से भी जाना जाता है | यहाँ के लोग साथ साथ रहते भी है और सभी त्योहारों को ख़ुशी के साथ मनाते है |

Updated: February 28, 2019 — 12:50 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *