स्वच्छता पर निबंध हिंदी में – पढ़े यहाँ Cleanliness Essay In Hindi

प्रस्तावना:

स्वच्छता का अर्थ है – हर व्यक्ति अपने पुरे शरीर, मन और चारो तरफ चीजों का अच्छे से साफ करना होता है | स्वच्छता मानव जीवन का बहुत महत्वपूर्ण एक गुण है | स्वच्छता की वजह से मानव का जीवन सुरक्षित रहता है |

हर स्कूल और कॉलेज में स्वच्छता के बारे में पढाया जाता है | उनको इस विषय पर निबंध लिखने के लिए भी दिया जाता था | स्वच्छता यह अनेक बीमारियों से बचने का एक उपाय है |

स्वच्छता का जीवन में महत्त्व

स्वच्छता जीवन के बहुत ही आवश्यक है | हर व्यक्ती को मानसिक, शारीरिक, बौद्धिक और सामाजिक तरीके से स्वस्थ रहने के लिए बहुत जरुरी है | हमें अपने जीवन में स्वस्थ रहने के लिए सभी प्रकार की स्वच्छता रखनी होगी |

हमारे आसपास के पर्यावरण का भी ख्याल रखना होगा | इस पर्यावरण से ही इन्सान को बहुत सारी चीजे प्राप्त होती है | अपने चारो तरफ का परिसर स्वच्छ रखेंगे तो जीवन सुखमय बन सकता है | हर व्यक्ति को अपनी स्वच्छता खुद करनी चाहिए |

हमारे भारतीय संस्कृतियों में ऐसा माना गया है की जहाँ स्वच्छता रहती है वहा लक्ष्मी का सदैव सहवास रहता है | भारतीय धर्म ग्रंथो में साफसफाई के बारे में बहुत निर्देश दिए गए है |

हर मनुष्य के शुद्ध आचरण होना चाहिए | आचरण के शुद्धता में ही स्वच्छता का निवास होता है | शुद्ध आचरण से हर इन्सान का मन और चेहरा तेजोमय रहता है |

स्वच्छता की आवश्यकता

हर इन्सान को अपना घर और अपने आसपास का परिसर स्वच्छ रखना चाहिए | साफ सफाई रखने से कोई भी बीमारी नही होती है | साफ सफाई न रखने पर कीड़े मकोड़े और अन्य जिव जंतु घर में प्रवेश करेंगे | उसकी वजह से अनेक प्रकार रोग चारो तरफ फ़ैल जाते है |

बहुत लोग कहते है की यह काम सरकारी एजंसियों का होता है इसलिए हर इन्सान कोई भी खुद न करके सरकार पर छोड़ देता है | जिसकी वजह से चारो तरफ गन्दगी फै जाती है और बहुत सारे रोग पैदा हो जाते है |

स्वच्छता के उपाय

अगर हर इन्सान साफसफाई रखेगा तो बहुत सारे रोग और बिमारिया दूर हो जाएगी  | स्वच्छता इन्सान को हर प्रकार के रोगों से बचाती है | स्वच्छता की वजह हमारे आसपास का वातावरण स्वच्छ और सुन्दर रहेगा | वातावरण को हम दूषित होने से बचा सकते है |

कोई लोग साफसफाई का महत्त्व समजते ही नही है | जहा पर कूड़ा कचरा जमा रहता है ऐसे जगह पे रहते है | उनको अपने दैनंदिन जीवन में परिवर्तन करना चाहिए और आसपास की जगह को साफ रखना चाहिए |

महात्मा गांधीजी ने भी ‘स्वच्छता अभियान’ की शुरुवात की थी | उन्होंने पुरे जनता को स्वच्छता का महत्त्व बताया था |

अस्वच्छता का दुष्परिणाम

बहुत सारे लोग रस्ते और अन्य जगह पे कचरा फेकते है उसके कारण गंदगी फ़ैल जाती है | सड़े कचरे की वजह से बहुत गन्दी बदबू उत्पन्न हो जाती है |

नदी, नाले, तलाव इसमें भी कचरा फेका जाता है | इन सबके कारण पूरा पर्यावरण दूषित हो जाता है | जब इन्सान साफ सफाई नही रखेगा तो उसको बहुत सारे बीमारियों का सामना करना पड़ेगा |

निष्कर्ष:

स्वच्छता रखना केवल सरकार का काम नही है | उनके साथ साथ हर व्यक्ति को स्वच्छता रखनी चाहिए | हमें स्वच्छता का महत्त्व समझना चाहिए | स्वच्छता रखना हर देश के नागरिक का कर्तव्य है |

Updated: February 27, 2019 — 10:27 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *