पक्षी पर निबंध – पढ़े यहाँ Bird Essay In Hindi

प्रस्तावना:

हमारे इस धरती पर अन्य प्रकार के जीव – जंतु, पशु – पक्षी इन निवास करते हैं | इसलिए उन्हें जलचर, थलचर और नभचर जैसे तीन भागों में विभाजित किया गया हैं |

जलचर यानि पानी में रहने वाले, थलचर धरती पर चलने वाले और नभचर यानि आसमान में उड़ने वाले | पक्षी यह दो पैर पर चलने वाला और उड़ने वाला जीव हैं | पक्षी अपने पंख के द्वारा आसमान में संचार करते हैं |

पक्षियों का आकार

हमारे देश में अन्य प्रकार के पक्षी पाए जाते हैं | हर एक पक्षी का आकार और रंग विभिन्न प्रकार का होता हैं | कई पक्षी काले रंग, तो कोई हरे रंग तो कोई जमुनी रंग में पाए जाते हैं | पक्षियों का शरीर हल्का होने के कारण उन्हें उड़ने में सहायता करता हैं |

पक्षियों के पंख रंग – बिरंगे होते हैं | पक्षियों की दो पैर और दो आँखे होती हैं | पैरों की सहायता से वो इस धरती पर भ्रमण करते हैं |

विभिन्न प्रजाति

कुछ पक्षी आसमान में बहुत ऊंचाई पर उड़ते हैं | पुरे देश में पक्षियों की अन्य प्रकार की विभिन्नताएं पाई जाती हैं | पक्षियों की ८७०० से भी अधिक प्रजाति पाई जाती हैं |

पक्षियों की मुख्य दो विशेषता एक समान होती हैं – एक तो यह उड़ सकते हैं और सभी पक्षी अंडे देते हैं |

पेड़ों पर घोसला

सभी पक्षी प्रकृति से गहरे से जुड़े होते हैं | यह ज्यादाटार तो जंगलों, झाड़ियों और पेड़ों पर अपना घोसला बनाकर रहते हैं | पक्षियों को थोडीसी भी हरियाली देख जाती हैं तो वहां अपना निवास स्थान बना लेते हैं |

कुछ पक्षी अपना घोसला बनाने में बहुत कुशल होते हैं | कुछ पक्षी पेड़ों के तने में गोल आकर बनाकर रहते हैं | कठफोड़वा पक्षी काठ में छिद्र बना लेता हैं | मोर जैसा पक्षी अपना घोसला न बनाकर झाड़ियों में ही रहता हैं | सभी प्रकार के पक्षी शाकाहारी होते हैं |

मधुर स्वर

कई पक्षियों के स्वर मधुर और आकर्षित होते हैं | कोयल, पपीहा, तोता इत्यादि पक्षियों के स्वर मधुर हैं | अन्य साहित्य में पक्षियों के स्वर की चर्चा की हैं | कुछ पक्षियों का आवाज कर्कश होता हैं |

पक्षियों का पालन

कई लोग पक्षियों को पालते हैं | पक्षी आजाद रहना पसंद कहते हैं लेकिन लोग उन्हें पालतू बनाकर रखते हैं | कबूतर, तोता और मोगा जैसे पक्षियों को पाला जाता हैं | हर किसी के घर में तोता दिखाई देता हैं |

तोता मनुष्य की आवाज का नक़ल कर सकता हैं | तोते को पिंजड़े में रखा जाता हैं | कबूतर यह शांति का प्रतीक माना जाता हैं |

पुराने ज़माने में कबूतरों का उपयोग संदेश्वाहन के रूप में किया जाता था | मुर्गा या मुर्गी पालन करना यह एक व्यवसाय हैं | इसका व्यावसायिक दृष्टी से बहुत महत्व हैं |

निष्कर्ष:

इस धरती पर पक्षियों का बहुत बड़ा संसार हैं | यह हमारे पर्यावरण के एक अभिन्न हिस्सा हैं | मनुष्य के जीवन में पक्षियों का विशेष महत्व हैं |

लेकिन आज कुछ पक्षियों की प्रजाति नष्ट होती जा रही हैं | सभी लोगों को पक्षियों को बचाने का प्रयास करना चाहिए |

Updated: May 20, 2019 — 11:48 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *