बैडमिंटन पर निबंध कक्षा ५ के लिए – पढ़े यहाँ Badminton Essay In Hindi For Class 5

प्रस्तावना:

हमारे देश में अनेक प्रकार खेल खेले जाते हैं | और हमारे देश में खेलों को बहुत महत्व भी दिया जाता हैं |

बैडमिंटन इस खेल को देश में पुराने ज़माने से खेला जा रहा हैं | हर एक व्यक्ति का अपना पसंद का खेल होता हैं | हर कोई व्यक्ति कबडडी, क्रिकेट या फुटबॉल ऐसे अन्य खेल खेलता हैं |

लेकिन किसी को बैडमिंटन यह खेल बहुत पसंद होता हैं | बैडमिंटन यह खेल मुझे भी पसंद हैं | मै इस खेल को बचपन से खेल रहा था |

बैडमिंटन इस खेल को विद्यालय, जिला स्तर, राज्य स्तर ,राष्ट्रीय और आंतर राष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता हैं |

खेल की रचना

बैडमिंटन यह खेल दो व्यक्ति के बीच में खेला जाता हैं | इस खेल को खेलने के लिए दो रेकेट और शटलकॉक की जरुरत होती हैं | शटलकॉक यह एक गेंद की तरह काम करता हैं |

बैडमिंटन खेल खेलने के लिए एक मैदान होता हैं | मैदान में दो समान भाग होते हैं और मैदान के बीच में जाली का नेट लगाया जाता हैं | बैडमिंटन इस खेल में खिलाडी एक दुसरे के सामने खड़े होते हैं |

इस खेल में ड्राइव और फ्लिप ऐसी दो सर्विस होती हैं | इस खेल में सबसे ज्यादा पॉइंट बनाने वाली टीम जीत जाती हैं | बैडमिंटन इस खेल को चार लोगो में भी खला जा सकता हैं |

बैडमिंटन खेल की शुरुआत

बैडमिंटन इस खेल शुरुवात १९ वी शताब्दी में ब्रिटिश सेना के द्वारा भारत देश के पुना शहर में हुई थी |

ब्रिटिश सैनिक इस खेल को ऊन के साथ खेला करते थे | उसके बाद इस खेल को इंग्लैंड में खेला जाने लगा और वहा उसके नियम बनाये गए | सन १९३६ में भारत ने भी इस खेल को अपनाया | और हमारे देश में भी यह खेल खेलना शुरू हो गया |

बैडमिंटन खेलने के फायदे

बैडमिंटन खेल खेलने से शरीर तंदुरुस्त बना रहता हैं | उसके साथ साथ सोचने और समझने की गति बढ़ जाती हैं | इस खेल को खेलने से हाथ पैर की मांसपेशिया मजबूत रहता हैं |

इस खेल को खेलने से हम खुश रहते हैं | बैडमिंटन इस खेल को खेलने से शरीर में किसी भी प्रकार के बिमारी को उत्पन्न होने की संभावना बहुत कम रहती हैं |

निष्कर्ष:

बैडमिंटन खेल खेलने से हमारे स्वास्थ्य को बहुत फायदा होता हैं | कई लोग इस खेल को बहुत प्यार से खेलते हैं | बैडमिंटन यह खेल किसी – किसी का पसंद का खेल होता हैं |

बैडमिंटन खेल मनोरंजन करने के लिए खेला जाता हैं | इस खेल को स्कूल कॉलेज में भी खेला जाता हैं |

Updated: April 3, 2019 — 12:34 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *