अल्बर्ट आइंस्टीन पर निबंध – पढ़े यहाँ Albert Einstein Essay In Hindi

प्रस्तावना:

इस दुनिया में अन्य बड़े – बड़े वैज्ञानिकों में से अल्बर्ट आइंस्टीन यह एक वैज्ञानिक थे | यह एक भौतिकवादी थे | उन्होंने द्रव्यमान और समीकरण के सूत्र के लिए जाने जाते हैं | यह पुरे विश्व का सबसे मुख्य समीकरण हैं |

अल्बर्ट आइंस्टीन इन्होने उर्जा के समीकरण का सूत्र E = MC Square निर्माण किया हैं | उन्होंने अपने जीवन में बहुत सारे आविष्कार भी किये हैं | अल्बर्ट आइंस्टीन यह एक बुद्धिमानी वैज्ञानिक थे |

अल्बर्ट आइन्स्टीन इनका जन्म

इनका जन्म १४ मार्च, १८७९ को जर्मनी में हुआ था | इनका मुख्य धर्म इस्राइल था | इनका पूरा नाम अल्बर्ट हेर्मन्न आइंस्टीन |

इनके पिता एक इंजिनियर थे | इनकी मुख्य भाषा जर्मन थी | लेकिन इन्होंने इटालियन और अंग्रजी भाषा का ज्ञान भी प्राप्त किया था |

अल्बर्ट आइन्स्टीन इनका जीवनी शिक्षा

अल्बर्ट आइन्स्टीन यह एक जातिवाद विरोधी थे | यह यहूदी धर्म को सबसे ज्यादा मनाते थे | उनको अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए कैथोलिक विद्यालय में जाना पड़ा | उनकी माँ को सारंगी बजाने आता था |

अल्बर्ट आइन्स्टीन इन्होने अपनी माँ से सारंगी बजाना सिखा था | लेकिन उसके बाद उन्होंने सारंगी बजाना छोड़ दिया | वो अपनी ८ साल की उम्र में ‘लुइटपोल्ड जिम्रेजियम’ में चले गए |

उन्होंने अपनी माध्यमिक शिक्षा और उच्च माध्यमिक शिक्षा वहाँ से पूरी की | अल्बर्ट आइन्स्टीन ने सन १८९५ में ‘फेडरल पॉलिटेक्निक’ की परीक्षा दी थी | उसके बाद उन्होंने सन १९०० में ‘फेडरल इंस्टिट्यूट’ ऑफ़ टेक्नोलॉजी से ग्रेजुएशन पूरा किया |

अल्बर्ट आइन्स्टीन की खोज

इन्होंने अपने जीवन में बहुत सारे वैज्ञानिक आविष्कार किये हैं | उसके कारण वो पुरे विश्व में सबसे प्रसिद्ध हो गए |

E = MC२ सूत्र –

उन्होंने द्रव्यमान और उर्जा का समीकरण तैयार किया था | आज उसे ‘न्युक्लेयर उर्जा’ इस नाम से जाना जाता हैं |

रेफ्रिजरेटर का आविष्कार

इसे निर्माण करने के लिए उन्होंने अमोनिया, पानी और ब्युटेन का उपयोग किया था | यह सबसे छोटी खोज हैं | इसे निर्माण करने के लिए उनको ज्यादा समय नहीं लगा था |

आसमान नीला क्यों होता हैं –

इसमें उन्होंने प्रकाश के प्रकिरण के बारे में बताया हैं | प्रश् की प्रकिरण के कारण आसमान नीला दिखाई देता हैं |

पुरस्कार से सन्मानित

इन्होंने अपने जीवन में बहुत सारी चीजों का आविष्कार किया हैं | उन्हें कई सारे पुरस्कारों से सम्मानित किया गया हैं | उनको सन १९२१ में सबसे पहले भौतिकी का नोबेल पुरस्कार, सन १९२५ में कोपले मेंडल और सन १९२९ में मेक्स प्लांक मेंडल इत्यादि |

निष्कर्ष:

अल्बर्ट आइन्स्टीन यह एक महान वैज्ञानिक ही नहीं थे बल्कि एक महामानव भीं थे | उनका जीवन एक वैज्ञानिक रूप में ही नहीं सभी लोगों के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत भी हैं |

Updated: May 10, 2019 — 11:23 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *